Advertisements

Bhringraj ke Fayde | भृंगराज के लाभ और कुछ नुकसान |

Advertisements

Bhringraj Ke Fayde को जानकर आयुर्वेद में भृंगराज को बहुत महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। आयुर्वेद में भृंगराज को केमिकल युक्त औषधि के तौर पर  उपयोग किया जाता है। भृंगराज की तीन किस में पाई जाती है और फूलों से इनकी पहचान होती है जैसे पीला, नीला, और सफेद।

इन तीनों ही रंग के फूलों में नीले रंग का भृंगराज बहुत दुर्लभ माना जाता है क्योंकि यह किसी किसी जगह ही प्राप्त होता है। लेकिन सफेद और पीले रंग का भृंगराज आपको कहीं भी खेत में दान या पहाड़ी इलाकों में आसानी से मिल जाता है।

औषधि के तौर पर इन तीनों में सफेद रंग का भृंगराज जो eclipta alba के नाम से जाना जाता है बहुत आम है । क्योंकि इसमें बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने और शारीरिक शक्ति बढ़ाने के विशेष गुण मौजूद है।

खासकर बालों के लिए भृंगराज का उपयोग बहुत ही फायदेमंद औषधि के तौर पर किया जाता है। बालों को घना बनाने, बालों का झड़ना रोकने और गंजापन दूर करने जैसे औषधीय गुण इसमें मौजूद है।

इसके अलावा भी भृंगराज के कई सारे फायदे यदि आप भी अपनी किसी शारीरिक समस्या का इलाज भृंगराज में ढूंढ रहे तो आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए। तो चलिए जानते हैं भृंगराज के फायदे क्या है और किन-किन शारीरिक समस्या में इसका इस्तेमाल हमें किस तरह फायदेमंद है।

1. भृंगराज की तासीर कैसी होती है :

भृंगराज की तासीर ठंडी होती है इसीलिए इसके हमारे शरीर पर कोई दुष्परिणाम होते नहीं देखे गए।

2. भृंगराज कितने प्रकार के होते हैं :

सफेद, नीला और पीला यह तीन प्रकार भृंगराज में पाए जाते हैं।

3. Bhringraj ke Fayde Balo ke Liye : भृंगराज के फायदे बालों के लिए :

बालों से जुड़ी किसी भी प्रकार की समस्या को दूर करने में भृंगराज बहुत ही फायदेमंद है औषधि मानी जाती है। बालों की समस्या दूर करने के लिए भृंगराज का तेल के तौर पर बालों में उपयोग किया जाता है।

4. Bhringraj Tel ke Fayde : भृंगराज तेल के फायदे :

नियमित तौर पर भृंगराज के तेल का बालों पर इस्तेमाल करने से बालों की ग्रोथ अच्छी होती है। सिरके स्कैल्प पर भृंगराज के तेल का रोजाना मसाज करने से खेल पर रक्त प्रवाह बढ़ जाता है। स्केल पर रक्त प्रवाह बढ़ने से बालों की जड़े एक बार फिर से एक्टिव हो जाती है और बालों का ग्रोथ होने लगता है।

भृंगराज का तेल घर पर भी बना सकते हैं। भृंगराज का तेल बनाने के लिए आप भीमराज में और भी अन्य प्रकार की बालों के लिए उपयोगी औषधि मिला सकते हैं। जो आपके बालों की और भी अन्य प्रकार की समस्या को दूर करने में मदद कर सकती है। तो आइए जानते हैं भृंगराज का उपयोग।

5. Bhrngaraaj ka Upayog Kaise Kare : भृंगराज का उपयोग कैसे करें :

अगर आप भृंगराज के तेल का उपयोग नहीं करना चाहते तो आप इस प्रकार भी भृंगराज का उपयोग अपने बालों के लिए कर सकते हैं । इसके लिए भृंगराज को छांव में सुखा लें, सूखने के बाद इसमें बहेड़ा, आंवला, रीठा और शिकाकाई को मिलाकर मिक्सर में बारीक पीस लें । अभी स्पीच हुए पाउडर का आप अपने सिर पर उपयोग कर सकते हैं ।

जब भी इस भृंगराज पाउडर को आप उपयोग करना चाहते तब रात को सोने से पहले 2 घंटे पहले लोहे की कढ़ाई में पानी में इसे उबाल लें। थोड़ा ठंडा होने के बाद इसे आप बालों में लगा सकते हैं । बालों की जड़ों को मजबूत करने के लिए आप भी इसमें एलोवेरा जेल भी मिला सकते इससे आपकी बालों की जड़ें भी मजबूत होंगी पर यह कंडीशनर का काम भी करेगा।

भृंगराज के तेल का रोजाना अपने सिर के स्कैल्प पर उपयोग करने से डैंड्रफ की समस्या खत्म होती है। इसके उपयोग से सिर की त्वचा पर किसी प्रकार के इंफेक्शन का खतरा भी नहीं रहता।

भृंगराज का नियमित इस्तेमाल आपके बालों को समय से पहले सफेद होने से रोकता है। और बालों की कुदरती चमक भी यह बरकरार रखता है।

6. भृंगराज के लाभ और कुछ नुकसान :

1) आंखों के लिए भृंगराज फायदेमंद :

अगर आपको आंखों की किसी प्रकार की समस्या है। तो आप भृंगराज के कुछ पत्तों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें और रोजाना सोने से पहले उसमें शहद और घी मिलाकर उसका सेवन करें यदि आप 1 महीने तक इस प्रयोग को करते हैं तो आपकी आंखों की किसी भी प्रकार की समस्या दूर होती है।

2) सांसों की समस्या में भृंगराज के फायदे :

यदि किसी व्यक्ति को सांस संबंधी समस्या है तो 100 ग्राम भृंगराज के रस 20 ग्राम तेल में पकाकर सेवन करने से सांस रोग दूर होता है।

3)बाल काले करें भृंगराज के फायदे :

किसी व्यक्ति के बाल समय से पहले सफेद हो गए हो वे अपने बाल काले करने के लिए इस प्रयोग को कर सकते हैं। गुड़हल के फूल और भृंगराज के फूल को भैंस के दूध में पीसकर लोहे के किसी पात्र में अच्छी तरह बंद करके जमीन में गाड़ दे। इस गड़े हुए पात्र को एक हफ्ते बाद निकाल कर रोजाना रात को इस मिश्रण को अपने सिर में सोने से पहले लगा है कुछ ही दिनों के साथ के असमय सफेद हुए बाल काले होने लगेंगे।

4) सिर दर्द में मूंग राज के फायदे :

सिर दर्द की समस्या होने पर देंगे आज के पत्ते का रस निकालकर सिर दर्द वाले स्थान पर लगाएं इससे सिर दर्द की समस्या दूर होती है।

5) आधासीसी सिर दर्द में भृंगराज के फायदे :

आधे सिर में दर्द होने पर भृंगराज के पत्तों को बकरी के दूध में पकाकर फेसबुक की कुछ बूंदें नाक में डालने से आधासीसी दर्द की समस्या में राहत मिलती है।

5) हाथी पाओं में भृंगराज के फायदे :

हाथी पाओं की समस्या होने पर भृंगराज के पत्तों को पीसकर सरसों के तेल में मिलाकर लगाने से समस्या दूर होती है।

7) मसूड़ों के दर्द में भृंगराज के फायदे :

मसूड़ों में दर्द की समस्या है तो भृंगराज के कुछ पत्तियों का रस निकालकर मसूड़ों पर लगाए इससे मसूड़ों में दर्द की समस्या मैं आराम मिलता है।

8) हाई ब्लड प्रेशर में ग्रास के फायदे :

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में दो चम्मच भृंगराज के पत्ते के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर खाने से 1 हफ्ते मैं ही हाई ब्लड प्रेशर की समस्या दूर होती है और रक्तचाप कंट्रोल में रहता है।

यदि आपके बच्चे को मिट्टी खाने की आदत है तो रोजाना सुबह-शाम रिंग राज के पत्तियों का रस निकालकर एक-एक चम्मच सुबह और शाम पिलाने से आपके बच्चे की मिट्टी खाने की आदत खत्म होती है।

निष्कर्ष :

भृंगराज एक बहुत ही महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि है जिसका आयुर्वेद में वर्षों से उपयोग होता आया है यदि आप भी अपनी किसी शारीरिक समस्या से पीड़ित है तो आप इन घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल कर अपनी शारीरिक समस्या को खत्म कर सकते।

आयुर्वेदिक औषधि की खास बात यह है किसे ठीक होने में कुछ वक्त लगता है लेकिन आयुर्वेदिक औषधि के किसी प्रकार के साइड इफेक्ट नहीं होते। तो आप भी हिना सही जानकारी की मदद से भृंगराज का उपयोग करें और स्वस्थ रहें।

तो यह थे भृंगराज के फायदे , इस लेख में मेरे द्वारा दी गई भृंगराज के फायदे के बारे में जानकारी आपको पसंद आई हो और इससे जुड़ी बातें आपको अच्छी तरह समझ आई हो तो आप इसका इस्तेमाल करके लाभ उठाएं और यह जानकारी औरों के साथ भी जरूर शेयर करें।

स्वास्थ्य संबंधी ऐसी उपयोगी जानकारी हिंदी में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट Hindiplant से जुड़े रहे। धन्यवाद।

Disclaimer :

वैसे तो ब्रिंग राज के कोई साइड इफेक्ट नहीं है लेकिन प्रत्येक व्यक्ति की प्रकृति विभिन्न प्रकार की होती है इसीलिए किसी औषधि से किसी व्यक्ति को अधिक लाभ होता है तो किसी व्यक्ति को लाभ होने में समय लगता है । तो किसी व्यक्ति को इन औषधि के नुकसान भी हो सकते हैं।

इसीलिए आपको किसी भी प्रकार की औषधि का प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर शाहिद की सलाह जरूर लेनी चाहिए। या फिर आपको उसको शादी को 1 से 2 दिन उपयोग कर अपने शरीर पर उसके किसी साइड इफेक्ट होने की समस्या के बारे में जानना चाहिए उसके बाद ही उसका रोजाना योग करना चाहिए।

 

 

 

 

 

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply

दूध पीने के फायदे | Benefits of Drinking Milk in Hindi प्राणायाम के फ़ायदे | Benefits of Pranayama in Hindi सौंफ खाने के फायदे | Saunf ke Fayde Hindi Banyan Tree in Hindi | बरगद के पेड़ के फायदे Anti Aging Dry Fruits Hindi | एंटी एजिंग ड्राई फ्रूट्स हिंदी
%d bloggers like this: