गुड़हल के फूल का तेल कैसे बनाएं | How To Make Hibisus Hair Oil In HIndi

अगर आप बालों का झड़ना, गंजापन, समय से पहले बालों का सफ़ेद होना, बालों का कम विकास जैसे बालों से जुडी समस्यां से परेशान है तो यह लेख आपको जरूर पूरा पढ़ना चाहिए। क्यों की इस लेख में आपके बालों से जूसी समस्यां  का आसान सा समाधान मौजूद है 

बालों से जुडी कई प्रकार की समस्यां में गुड़हल के फूल और पत्ती बेहद फायदेमंद है। साथ ही गुड़हल का तेल बालों के लिए रामबाण औषधि की तरह काम करता है। 

किंतु बाजार में गुड़हल का तेल सभी जगह आसानी से उलब्ध नहीं है। तो इस लेख में आप घर पर ही गुड़हल के फूल का तेल कैसे बनाएं के बारें में सिख्नेगे। 

जिससे आप गुड़हल के तेल का लाभ उठा सकें और अपने बालों को कला, घना और सुंदर बना सकें। तो चलिए शुरू करतें है। 

गुड़हल के फूल का तेल कैसे बनाएं | How To Make Hibisus Hair Oil In HIndi.



गुड़हल के फूल का तेल कैसे बनाएं। How To Make Hibisus Hair Oil In HIndi.

संबंधित विषय>>

गुड़हल के तेल के  फायदे : Hibisus Hair Oil Benefits In HIndi.

गुड़हल का तेल कई वर्षों से बालों के लिए उपयोग किया जाता है। यह आपके बालों की किसी भी प्रकार की समस्यां जैसे गंजापन, बालों का अधिक झड़ना, नए बाल आने की समस्यां, नाजुक बाल, बालों में चमक की कमी जैसी समस्यां को दूर करने के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

गुड़हल के तेल में कुछ ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जिसका उपयोग आप तेल बनाकर या फिर अन्य कसी भी तरह अपने बालों के लिए करते है तो यह आपके सिर में ब्लड सरकुलेशन को काफी ज्यादा बढ़ा देता है।

जिससे यह आपके बालों की जड़ें मजबूत करने के साथ नए बाल आने में बहुत ज्यादा मदद करता है। साथ ही यह आपके सिर में खुजली या फिर किसी अन्य समस्यां को भी यह समाप्त करता है।

गुड़हल के फूलों में एमिनो एसिड ( Amino acid )के साथ अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड ( Alpha hydroxy acid ) विटामिन ए ( Vitamin A )और विटामिन सी ( Vitamin C ) पाए जाते है। यह रूखे बालों के लिए प्राकृतिक कंडीशनर का काम करते है।

गुड़हल का तेल बनाने के लिए हम गुड़हल के फूलों के साथ मीठी नीम का भू उपयोग करेंगे। क्यों की मिट्ठी नीम के पत्तों में मौजूद बीटा केरोटीन ( beta carotene ) और एमिनो एसिड ( Amino acid ) आपके बालों को काला, लंबा और मजबूत बनाने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें एंटी ऑक्सीडेंट भी है जो ( Hair follicles ) बालों के रोम और बालों की मांसपेशी को पोषण देते है। तो आईये जानते है गुड़हल के फूल का तेल कैसे बनाते हैं।

संबंधित विषय>>

  • नीम के पत्ते को मुंह पर लगाने से क्या होता है?

गुड़हल के फूल का तेल बनाने की विधि | How To Make Hibisus Hair Oil In HIndi

सामग्री :

१) गुड़हल के फूल 

२) नीम की पत्तियां 

३) नारियल का तेल 

सबसे पहले गुड़हल के ८ से १० फूलों को और नीम की ७ से ८ टहनियों को पत्तियों के समेत धुप में १ दिन सूखा लें। धुप में सुखताते समय इस पर कपडा जरूर ढक लें।  जब फूल और पत्तियां सुख जाएँ उसके बाद गुड़हल के फूल का तेल बनाने की विधि शुरू करें। नीम की पत्तियों से तेल में अधिक खुशबु आती है। 

अब एक मोटा लोहे का बर्तन लें, यदि लोहे का बर्तन न मिले तो आप किसी अन्य बर्तन का भी उपयोग कर सकतें है। हो सके तो आप मोटे तले का बर्तन ही लें क्यों की यह आपके तेल को जलने से बचाएगा। 

अब इसमें लगभग २०० ग्राम नारियल का तेल धीमी आंच पर गर्म करें। आंच को एकदम धीमा रखें याद रहे तेल को आप ज्यादा गर्म न करें न करें। ३ से ४ मिनट में तेल गर्म होने लगेगा। 

आप सावधानी बरतें और  इस तेल में धीरे-धीरे सामग्री डालें आंच को एकदम धीमा रखें एक साथ सारे फूल और पत्तियां ना डालें। बर्तन को हल्का-हल्का हिलाएं और सामग्री को पकने दें। ध्यान दें आपको फूलों को (fry ) तलना  नहीं है। 

बल्कि तेल में फूलों और पत्तियों का रस सोखना  (अंतर्लीन करना )  है। इसलिए धीमी आंच पर बर्तन को हल्का-हल्का हिलाते रहे। ध्यान रहे कि आप बर्तन को ढकें नहीं, क्यों की ढकने के कारण भाप ( Steam ) से बनने वाला पानी आपके तेल में गिरेगा  तेल भी उछलेगा इस लिए विशेष सावधानी बरतें। 

दूसरी और तेल में गिरे पानी और इसकी नमी के कारण तेल जल्दी खराब होने की पूरी संभावना रहेगी। आंच को ५  से ७  मिनट के बाद बंद करके तेल को ठंडा होने दें। इसके बाद आप इस तेल को१०  से १२ घंटे तक ऐसे ही रहने दें।  

ताकि नीम की पत्तियों और गुड़हल के फूलों का रस अच्छी तरह तेल में मिल जाए। ध्यान दें कि उपयोग किए जा रहे सभी बर्तन छलनी और बर्तन  साफ और सूखे हो। १० से १२ घंटे के बाद साफ और सुखी छलनी से इस तेल को छान कर रख लें।  

आप देख्नेगे आपको  गहरे हरे रंग का तेल मिलेगा और  इसमें गुड़हल के फूल और करी पत्ते की खुशबु होगी। इस तेल को सप्ताह में दो बार बालों की जड़ों से सिरे तक लगाकरमालिश करके रात भर रहने दें। ध्यान पूर्वक रखने पर इस तेल की आयु १ महीने तक होती है। 

सारांश :

बाजार में मिलने वाले महंगे और केमिकल युक्त तेल का उपयोग आप करते होंगे। किंतु आप गुड़हल के तेल का उपयोग भी जरूर करें। इससे आपके बालों को कोई भी नुकसान नहीं होगा और आपके बाल स्वस्थ, सुन्दर, लम्बे, काले तथा घने होंगे। इससे आपको फायदा हो होगा ना की कोई नुकसान पहुंचेगा। 

संबंधित विषय >>

देखा आपने हमारे आसपास पाए जाने वाला गुड़हल का फूल आपके बालों के लिए कितना उपयोगी और फायदेमंद है। इसलिए आप गुड़हल के तेल का उपयोग अपने बालों के लिए  दैनिक जीवन में जरूर करें।  

तो आप ने इस लेख में जाना गुड़हल के फूलों का तेल कैसे बनाया जाता है। इस लेख में मेने विस्तार से गुड़हल का तेल बनाने के बारें में जानकारी दी है। फिर भी आपके मन में कोई सवाल हो या फिर आपको गुड़हल के बारें में कोई जानकारी हो तो कमैंट्स में जरूर बातएं। 

आपको गुड़हल के फूल का तेल कैसे बनाएं लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों, रिश्तेदारों या फिर किसी जरुरतमंद को शोशियल मीडिया FacebookInstagram और Whatsapp के माध्यम से जरूर शेयर करें ताकि वे भी इसका लाभ उठा सकें। 

हमारी धरती के पेड़-पौधे, वनस्पति और जड़ी-बूटी की रोचक और उपयोगी जानकारी  के लिए हमारी वेब साइट Hidiplant से जुड़े रहें।