नीम के बीज को खाने के फायदे और नुकसान।

नीम के कड़वे स्वाद तथा इसके स्वास्थवर्धक फायदे के बारें में आपनें कई बार सुना और पढ़ा होगा। किंतु नीम के बीज खाने से होने वाले  फायदे भी कई सारे और आपके स्वास्थ लिए फायदेमंद है। 

नीम के बीज जिसे नीम के फल तथा निबोली  के नाम से भी जाना पहचाना जाता है। नीम की पत्तियों में एंटीसेप्टिक और एन्टीबैक्टेरिअल गुण पाए जाते है। जिनका उपयोग कई सारी बिमारियों के इलाज में किया जाए है। 

लेकिन या आप जानते है नीम के बीज में भी कई सारे औषधीय गुण मौजूद है। जिनके उपयोग और सेवन से आप आपकी शारीरक समस्यां को दूर करने तथा कई रोगों के इलाज में कर सकतें है। 

यक़ीनन आप नीम के बीज को खाने के फायदे के बारें में नहीं जानते होंगे। तो इस जानकारी का सही उपयोग करने के लिए आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए। 

इस लेख के माध्यम से आप नीम के बीज खाने के फायदे तथा इनके कुछ नुकसान के बारें में अच्छी तरह जान सकें। तो चलिए शुरू करतें है। 

और पढ़ें >>

क्या है नीम ? :

नीम का वानस्पतिक नाम एजाडिरेक्टा इण्डिका (Azadirachta indica) है। यह एक पेड़ है जिसका  लगभग हर हिस्सा पत्ती, छाल, फल, फूल, जड़ आदि  विशेष औषधीय गुण रखता है जिनका औषधि बनाने में उपयोग किया जाता है। 

निंबोली का कच्ची तथा पकी हुवी दोनों ही अवस्था में उपयोग किया जाता है। 

कच्ची निंबोली में मौजूद औषधीय गुण कोढ़, बवासीर, गुल्म, प्रमेह और कृमि आदि रोगों को दूर करने में फायदेमंद है। 

जब की पकी निबोली नेत्र रोग, फेफड़े की समस्यां, रक्त, पित्त तथा कफ के इलाज में लाभकारी है। 

नीम का उपयोग कई सारे उत्पाद बनाने में किया जाता है। निंबोली से कीटनाशक, पशु आहार, सौंदर्य प्रसाधन और खाद बनाने में किया जाता है। 

निंबोली में मौजूद औषधीय गुण :

  • एंटीऑक्सीडेंट ( Antioxidant )
  • एंटीसेप्टिक ( Antiseptic )
  • ऐंटिफंगल ( Antifungal )
  • एंटी परासेटिक ( Anti parasitic )
  • विटामिन सी ( Vitamin C )
  • प्रोटीन ( Protein )
  • कैरोटीन ( Carotene )
  • एंटी एजिंग ( Anti aging )

नीम के बीज को खाने के फायदे :

१) एंटीऑक्सीडेंट और एंटीसेप्टिक गुण रोगप्रतिकारक शक्ति को बढ़ाता है नुकसान पहुंचाने वाले रेडिकल्स से बचाता है। 
 
२) पाचन संबंधी समस्यां में फायदेमंद है। 
 
३) मूत्राशय, प्रोस्टेट और किडनी के इलाज में लाभकारी है। 
 
४) प्रोटीन, विटामिन सी और केरोटीन बालों को सुंदर तथा स्वस्थ  बनाने में मदद करते है। 
 
५) निंबोली के तेल में मौजूद एंटी एजिंग और एंटीऑक्सीडेंट गुण चहेरे की झुर्रियां कम करने में    असरदार है। 
 

नीम के बीज खाने के नुकसान :

 
नीम के बीज की साधारण खुराक पर किसी प्रकार का नुकसान नहीं देखा गया। परंतु बिना इसके सेवन की सही जानकारी और खुराक सही मात्रा की सही जानकारी के इसके प्रयोग से पहले किसी डॉक्टर  चिकित्सक सलाह जरूर लेनी चाहिए। 
 
हालांकि इसके नुकसान की संभावना उपयोग कर्ता की खुराक उसके स्वास्थ तथा आयु पर निर्भर  करती है। परंतु इसके सेवन से पहले कुछ सावधानियां जाननी आपके लिए जरुरी है। 
 
१) मधुमेह रोगियों के लिए इसका सेवन खून में शर्करा की मात्रा कम करता है इसके लिए इसकी सही मात्रा का सेवन जरुरी है। 
 
२) निंबोली का तेल आँखों  जलन पैदा  सकता है। इसके लिए सावधानी बरतें। 
 
३) गर्भावस्था वो मजुक समय  जिस के दौरान किसी भी प्रकार की औषधि का उपयोग करने पहले  चिकित्सक की सलाह जरूर लेनी चाहिए नहीं तो यह गर्भपात का कारण सकती है। 
आपने देखा साधारण से दिखनेवाली और आसानीसे मिलनेवाली निबोली के कितने सारे स्वास्थवर्धक फायदे है जिनका उपयोग आप आपकी सेहत को बेहतर बनाने में कर सकतें है। 
 
हमारे आयुर्वेद ने हमें कितनी सारी औषधि और उपयोग की जानकारी दी है। तो हमें इन जानकारी का सही उपयोग करके इनका लाभ जरूर लेना चाहिए। 
 
आयुर्वेदिक औषधि में ही वो विशेषता है जिनके यह ही औषधि के उपयोग से कई तरह के लाभ हमें मिलते है और इनके कुछ ख़राब असर भी देखने को नहीं मिलते। 
 
तो यह थी जानकारी नीम के बीज को खाने के फायदे और नुकसान के बारें में। यदि आपको इस  लेख के विषय में जानकारी या फिर कोई सवाल या  सुझाव हो तो कमैंट्स माध्यम से हमें जरूर बताएं। 
 
आशा करता हूँ यह लेख आपको पसंद आया हो तो आप इसे अपने  दोस्तों तथा रिश्तेदारों के साथ अन्य शोशियल मीडिया FacebookInstagram  और Whatsapp पर जरूर शेयर करें। 
 
हमारी धरती के पेड़- पौधे, जड़ी-बूटी और वनस्पति की ऐसी ही रोचक और महत्पूर्ण जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट Hindiplant  पर जुड़ें रहें। 
 
 
 
 

2 thoughts on “नीम के बीज को खाने के फायदे और नुकसान।”

  1. नीम के बीज सेवन से क्या क्या नुकसान पहुंचा सकते हैं, स्पष्ट नहीं है । सेवन से पूर्व डाक्टर की सलाह का सुझाव से लेख का महत्व कम हो सकता है ।
    अच्छा होता लेख में सेवन विधि, परहेज न नुकसान का भी सटीक उल्लेख किया गया होता, ऐसे लेखों के प्रति रुझान बढ़ता ।

    Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: