दालचीनी (Cinnamon) के कई फायदे और कुछ नुकसान।

दालचीनी (Cinnamon) के कई फायदे और कुछ नुकसान

दालचीनी (Cinnamon) के कई फायदे और कुछ नुकसान। 

दालचीनी का उपयोग स्वादिष्ट मसालों के तौर पर कई वर्षो से होता आया है। यह आपके खाने को जितना स्वादिष्ट बनाने का काम करता है उनसे कई ज्यादा  दालचीनी के फायदे है। 

यक़ीनन इसके बारें में आप नहीं जानते होंगे। दालचीनी का उपयोग कई लंबे समय से आयुर्वेद में दवा के तौर पर भी  होता आया है। इसके सही उपयोग से आपकी कई प्रकार की शारीरिक समस्यां दूर हो  सकती है। 

इसके लिए आपको  दालचीनी की सही जानकारी  होना आवश्यक है। अत; आज के इस लेख में आपको दालचीनी के विषय में विस्तार से जानकारी प्राप्त होगी।इस जानकारी के लिए आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए। जिन से की आप दालचीनी के पुरे  लाभ (Cinnamon benefits in hindi) ले सकें। 

तो चलिए शुरू करतें है आज का महवपूर्ण विषय दालचीनी (Cinnamon) के कई फायदे और कुछ नुकसान बिना किसी देरी के। 

और पढ़ें >>

दालचीनी की जानकारी और पहचान : 

दालचीनी का वैज्ञानिक नाम Cinnamomum verumहै। दालचीनी एक प्रकार के सदाबाहर पेड़ की छाल है। इस पेड़ की छाल का ही मसालों के रूप में प्रयोग किया जाता है। दालचीनी की खुशबु बहुत तेज तथा सुगन्धित होती है। इसे आमतौर पे गरम मसालों के रूप में उपयोग किया जाता है। 

दालचीनी का उपयोग चूर्ण के रूप में, चाय के रूप में, दालचीनी का तेल बनाने में और दवाईयों में किया जाता है। 

दालचीनी के पोषक तत्व :

दालचीनी में कैल्शियम, मैंगनीज, आयरन, एंटीऑक्सिडेंट जैसे पोषक तत्व मौजूद है। 

क्या दालचीनी गर्म होती है?  

जी हाँ, दालचीनी की तासीर गर्म होती है। इसलिए दालचीनी को गरम मसालों के रूप में उपयोग किया जाता है। 

दालचीनी के क्या फायदे? 

दालचीनी का प्रयोग दो तरीके से होता आया है। मसाले के रूप में और दवा के रूप में और इन दोनों हो रूप में यह आपके स्वास्थ के लिए बहुत ही फायदेमंद है। तो आईये जानते है, दालचीनी के फायदें किन बिमारियों में और किस प्रकार फायदेमंद है। 

मधुमेह में दालचीनी का फायदा :

दालचीनी के औषधीय गुण मधुमेह को नियंत्रित करते है।  दालचीनी टाइप २ मधुमेह वाले रोगी  के शर्करा की मात्रा को नियंत्रित कर लिए यह सकारात्मक प्रभाव डालता है। यह शरीर में इन्सुलिन मात्रा को बढ़ाने में मदद करता है। इससे यह मधुमेह रोगी को एक स्वस्थ और साधारण जीवन व्यतीत करने में मदद करता है।

दालचीनी के प्रयोग के लिए प्रतिदिन नियमित रूप से  डेढ़ चम्मच से कम दालचीनी का सेवन करने वाले  टाइप २ मधुमेह रोगियों के खून में शर्करा की मात्रा कम कम पायी गयी  है। इसीलिए मधुमेह के रोगियों को दालचीनी  के लाभ उठाने के लिए नियमित इसे अपने भोजन में शामिल करना फायदेमद होगा। 

दालचीनी की चाय के फायदे :

दालचीनी से बनीं की चाय का सेवन आपके दिमाग की कार्य क्षमता को बढ़ाता है। ऐसा अनेक शोधों में देखा गया है।ऐसा भी बताया गया है की  इस अद्भुत मसाले की मनभावन सुगंध मात्रा से आपका दिमाग सक्रिय हो जाता है। 

इससे आपका  ध्यान स्मरण शक्ति और आपके मस्तिष्क के कामकाज में काफी सुधार आता हैं। इसीलिए दिमाग की तथा  मानसिक शांति के लिए आपको दालचीनी की चाय का सेवन जरूर करना चाहिए। 

दालचीनी की चाय आपकी घबराहट और  मन को शांति भी  प्रदान करता है।  यह आपकी चिंता को कोसों दूर भेज कर आपको आनंद और एकाग्रता प्रदान करेगा।  इससे आप खुशी-खुशी अपना कार्य बिना रूकावट पूरा कर सकेंगे। 

ह्रदय  को मजबूत बनाते है दालचीनी के लाभ :


दालचीनी का उपयोग आपके हृदय की भी  रक्षा करता है। दालचीनी में मौजूद विभिन्न एंटीइन्फ्लेमेटरी गुणों के कारण यह ह्रदय और इसके आसपास की धमनियों को नुकसान और संक्रमण से बचाने में बहुत कारगर है। 

आजकल बाजार में मिलनेवाले कई प्रकार के  खाद्य पदार्थ कोलेस्ट्रोल और वसा को आपके शरीर में बढ़ाते हैं।  इसकी वजह से आपके ह्रदय को नुकसान पहुँचता है और यह  ह्रदय की कार्यक्षमता को कम करता है। जिससे हृदय से जुड़े खतरे बढ़ने लगते है। 

दालचीनी के उपयोग से आपके शरीर को खराब कोलेस्ट्रोल से लड़ने में मदद मिलती है। जिसमें बेड कोलेस्ट्रोल का स्तर काफी कम हो जाता है। इसमें मौजूद  एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण सूजन, दिल के दौरे और ह्रदय की बीमारी के जोखिम को कम करने में मदद करते हैं। 

डायरिया में फायदेमंद  दालचीनी के गुण :


दालचीनी का उपयोग डायरिया यानी कि दस्त और कब्ज जैसी परेशानियों को ठीक करने में भी बहुत फायदेमंद  होता है। 

कैंसर से बचाये दालचीनी के फायदे :


दालचीनी में मौजूद औषधीय गुण आपको कैंसर से बचा सकता है। कई सारे ऐसे अध्ययनों से पता चला है कि दालचीनी कैंसर की कोशिकाओं को ख़त्म करके उसे बढ़ने से रोकते है। 

वैज्ञानिक शोध के अनुसार दालचीनी  शरीर में कैंसर की कोशिकाओं की वृद्धि को कम करता है। दालचीनी को यदि आहार में  नियमित रूप से शामिल किया किया जाए। तो यह यूके मियां और और लिंफोमा कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि दर को कम करने में भी मददगार साबित हुवा है। 

सर्दी, जुकाम में दालचीनी के फायदे :

मौसम के बदलने पर कई लोगों को सर्दी, खांसी और झुकाम की समस्यां हो जाती है। दालचीनी को गर्म पानी में डालकर इसमें शहद मिलाकर पिने से आराम मिलता है। 

दालचीनी और शहद के फायदे इन हिंदी :

दालचीनी में भरपूर मात्रा में एन्टी बैक्टेरिअल गुण मौजूद है। जो आपकी त्वचा को निखारने का काम करते है। इससे आपकी सभी प्रकार की त्वचा संबंधी परेशानी दूर  होती है। 

गर्म पानी में शहद मिलाकर  पिने से कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित रहेता है और यह धमनियों की ब्लॉकेज को भी खोलता है। जिससे हृदय सम्बन्धी समस्यां दूर होती है। 

कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित कर मोटापा कम करते है दालचीनी की चाय के फायदे। 

दालचीनी का सेवन कैसे करें?

दालचीनी का सेवन  कई प्रकार से  किया जा सकता है। उनमें से कुछ तरीके इस प्रकार है। यह तरीके बहुत  आसान और फायदेमंद है। 

१) आप सुबह के समय दालचीनी पाउडर को अपने दलिया या कोई अन्य आहार पर छिड़क कर खा सकतें  है। 

२) या फिर आप अपनी चाय या कॉफी में इसकी एक चुटकी चूर्ण मिलाकर भी सेवन के सकतें है। 

दालचीनी और दूध के नुकसान :

दालचीनी के फाये आपने जाने इसका सही तरीके से उपयोग करके आप आपके स्वास्थ को बेहतर कैसे बना सकतें है। मगर ध्यान देनी वाली बात यह है के दालचीनी की तासीर गर्म है। इसीलिए इसका अधिक सेवन आपके शरीर की गर्मी को बढ़ा सकता है। 

यदि आपको दालचीनी के सेवन से किसी प्रकार की समस्यां होती है या फिर आपको  किसी प्रकार की शारीरक समस्यां हो तो दालचीनी के सेवन से पहले अपने डॉक्टर या वैध  जरूर लें। 

और पढ़ें >>

तो आपने जाना दालचीनी पीने के फायदे आपके स्वास्थ केलिए कितनी फायदेमंद है और इसके सही उपयोग से आपकी कई सारी शारीरिक समस्यां दूर हो सकती है। 

इस लेख में आपने दालचीनी के कई फायदों के बारें में जानकारी प्राप्त की इसी के साथ आपने इसके कुछ नुकसान के बारें में भी जाना। मुझे उम्मीद है इस लेख से आपको दालचीनी के बारें में अच्छी और उपयोगी जानकारी मिली होगी। 

यदि आपको भी दालचीनी के विषय में कोई जानकारी हो या आपके मन में इस विषय में कोई सवाल या सुझाव हो तो निचे कमैंट्स में हमें जरूर बताएं। 

यदि आपके यह लेख दालचीनी (Cinnamon) के कई फायदे और कुछ नुकसान अच्छा लगा हो तो इसे अपने  दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ अन्य शोशियल मीडिया Facebook और Whatsapp पर जरूर शेयर करें। 

हमारी धरती की ऐसी ही रोचक जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट Hindiplant  पर क्लिक करें।