एलोवेरा (ग्वारपाठा) के अद्वितीय फायदे-उपयोग और जानकारी।

एलोवेरा के  फायदे आज लगभग हर कोई अच्छी तरह जानता है। इसी लिए पुरे विश्व में एलोवेरा की मांग बढ़ती जा रही है। इसका कारण एलोवेरा के औषधीय गुण और इसके अद्वितीय फायदे है।

प्राचीन समय से ही हमारे ऋषि-मुनिओं ने एलोवेरा के फायदों के बारें में जाना और पुस्तकों के माध्यम से हमें बताया। इसीलिए आयुर्वेद में एलोवेरा के फायदे और उपयोग के बारें में विस्तार से जानकारी दी गयी है।

एलोवेरा  एक ऐसा औषधीय पौधा है जिस की  की सही जानकारी और उपयोग से आप कई तरह के रोग और बिमारियों को ठीक ही नहीं बल्कि दूर भी कर सकतें है।

एलोवेरा का उपयोग दवा बनाने और कई सारे सौंदर्य प्रसाधन (Beauty products) बनाने में किया जाता है। आपको भी एलोवेरा के बारें में थोड़ी बहुत जानकारी होगी। इसीलिए  मेने सोचा क्यों ना आपकी इस जानकरी को बढ़ाते हुवे इस पर विस्तार से एक लेख लिखा जाए।

जिसमें विस्तार से एलोवेरा  के कई सारे फायदों और उपयोग के विषय में  जानकरी दी जाए। जिससे आप एलोवेरा के लाभ (Aloe Vera benefits in Hindi  ले सकें और अपनी तथा अपनों की स्वास्थ को बेहतर बनाने में एलोवेरा के फायदें और इसका  लाभ उठा सकें।

तो चलिए शरू करतें है आज का विषय एलोवेरा एलोवेरा (ग्वारपाठा) के अद्वितीय फायदे – उपयोग  और जानकारी।

एलोवेरा (ग्वारपाठा) के अद्वितीय फायदे – उपयोग  जानकारी।

क्या है एलोवेरा (ग्वारपाठा) :

एलोवेरा का वैज्ञानिक नाम Aloe Arbadensis Mill है। हिंदी में ये पौधा  ग्वारफाटा के नाम से जाना पहचाना जाता है। एलोवेरा तासीर गर्म होती है।

इसकी दुनिया भर में २५० से भी अधिक प्रजाति पायी जाती है। इन सभी में २ प्रजाति का ही मुख्यतः उपयोग किया जाता है।

 एलोवेरा अपने गूदेदार पत्तों से भरा एक तरह का कटीला पौधा होता है। इसकी पत्तों के किनारों पर छोटे -छोटे कांटे होते है। यह पत्ते आगे से नुकीले  होते है।

एलोवेरा इन पत्तों में जेल नुमा तरल पदार्थ भरा हुवा होता है। इसका ही उपयोग एलोवेरा के तौर पर किया जाता है।जिसमें  कई तरह के प्रोटीन, विटामिन्स और पोषक तत्व मौजूद होतें है।  ये आपके स्वास्थ के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

एलोवेरा की  सही जानकारी और उपयोग से आपकी कई तरह की शारीरिक समस्यां दूर हो सकती है। तो आईये जानते है एलोवेरा के फायदों के बारें में ये आपकी किन -किन शारीरक समस्यांओं में किस तरह उपयोग कर सकतें है।

आम तौर पर लोग बाजार में मिलने वाले ओवेरा जूस और जेल का उपयोग करतें है मगर इसके ताजा निकाले हुवे जेल और जूस दूसरों के मुकाबले अधिक फायदेमंद है।

और पढ़ें>>

एलोवेरा के पोषक तत्व :

 एलोवेरा में विटामिन A, C,  और E प्रचुर मात्रा में मौजूद है। इसके साथ इसमें अलोइन Aloin, विटामिन  बी २ (vitamin B12), फोलिक एसिड (Folic Acid), मिनरल्स (minrals), सैलिसिलिक एसिड (Salicylic Acid), सबसे महत्व पूर्ण तत्व पोलीफेनोल  Polyphenol मौजूद है।

एलोवेरा के फायदे : Benefits of Aloevera In Hindi :

एलोवेरा के फायदे स्किन के लिए :

  • त्वचा के दाग धब्बे मिटाने के लिए  एलोवेरा सबसे अधिक फायदेमंद औषधि है। इसका उपयोग करने के लिए एलोवेरा के पत्ते को लेकर काट लें और उस जेल का लेप रात में लगाकर सोना चाहिए। ध्यान रहें जिनकी स्किन ऑयली  है वे लोग सिर्फ यह जेल लगाएं और जिनकी स्किन ड्राई या नॉर्मल है वे विटामिन ई (vitamin E) की एक कैप्सूल तोड़ कर दो तीन बून्द इसके  पत्ते पर डालकर फेस पर लगाएं।
  • एलोवेरा में बहुत ही उपयोगी एंटी एजिंग तत्व मौजूद है जो आपकी त्वचा को साफ रखतें  है और यह तत्व आपकी त्वचा को झुर्रियों से बचाते है।
  • शरीर की कोई त्वचा  जल जाए तो उस पर एलोवेरा जेल को हल्का सा पीस कर उसमें दो-तीन बूंद विटामिन ई कैप्सूल का तेल मिलाकर दिन में दो से तीन बार लगाने से जली हुई त्वचा बहुत जल्दी ठीक होने लगती है।
  • धूप से जली त्वचा को ठीक करने के लिए २ चम्मच ताजा एलोवेरा और नारियल का तेल अच्छी तरह  मिलाकर दिन में दो या तीन बार लगाने पर धुप से जली त्वचा जल्दी ठीक हो जाती है।

एलोवेरा के फायदे बालों के लिए :

 एलोवेरा जेल के लाभ बालों के लिए भी बहुत अधिक देखे गए है। इसका उपयोग करने केलिए एलोवेरा जेल का लेप बनाकर बालों में लगाने से आपके बाल मजबूत और चमकदार होते  हैं।
आप सिर धोने के एक घंटा पहले दो चम्मच ताजा एलोवेरा जेल में आधा चम्मच नारियल का तेल मिलाकर अच्छी तरह से मिलाकर सिर में लगाएं  और आधे घंटे के बाद शैंपू कर के धो लें। यदि किसी के बाल ऑयली है उनको सिर्फ एलोवेरा जेल लगाना चाहिए।

मधुमेह में एलोवेरा के फायदे :

आप मधुमेह से  पीड़ित है और यदि आपके शरीर में कोई चोट लगने से घाव हो जाए या जिनके घाव जल्दी ठीक नहीं होते हैं उस व्यक्ति को एलोवेरा जेल के एक टुकड़े को पत्ते से निकालकर घाव पर लगाएं और ऊपर से इस पर पट्टी बांधे इससे  एलोवेरा में मौजूद तत्व जैसे  पॉलिफिनॉल्स और एन्झाइम घाव को साफ करके उसमें बैक्टीरिया की ग्रोथ को रोकते है।

खिल मुहांसे दूर करें एलोवेरा के फायदे :

एलोवेरा में मौजूद एंटीबैक्टीरियल तत्व खिल और मुहांसे दूर करने में बहुत फायदेमंद माने जाते है। इस प्रयोग को करने के लिए रात को सोते समय आप सबसे पहले सादे पानी से अपने चहेरे को धो लें। इसके बाद ताजा एलोवेरा जेल को निकालकर अच्छी तरह पूरे फेस पर लगा कर सो जाएँ और  सुबह उठकर सादे पानी से अपने चहेरे को धो लीजिए।
इसके बाद कोई एक अच्छा ऑयल फ्री मॉइश्चराइजर लगा लीजिए। आपको इस प्रयोग से खिल, मुहांसों को दूर करने में अद्भुत लाभ देखने को मिलेंगे। इसका एक और प्रयोग भी है।
खिल, मुहांसों के लिए आप एलोवेरा जेल का मास्क बनाकर भी लगा सकते हैं। इस मास्क को बनाने के लिए दो चम्मच शुद्ध शहद में एक चम्मच ताजा एलोवेरा जेल और एक चौथाई चम्मच दालचीनी पाउडर (cinnamon powder) दोनों को समान मात्रा में लेकर अच्छी तरह मिलाकर इस लेप को अपने पुरे चहेरे पर अच्छी तरह लगा लें।
 
१५ मिनट बाद इस लेप को सादे पानी से धो कर शुद्ध नारियल तेल या अच्छा सा ऑयल फ्री मॉइश्चराइजर लगा ले। यह आपको बहुत लाभ देगा। शहद एक क्लींजिंग एजेंट है और एलोवेरा और दालचीनी पाउडर एंटीबैक्टीरियल होने की वजह से इन दोनों पिंपल सुखा कर चहेरे की सुंदरता बढ़ा देते है। इसीलिए कहते हैं के चेहरे के लिए अमृत है एलोवेरा।
 
जानिए>>

दांत और मसूड़ों में एलोवेरा जूस के फायदे :

अपने दांत साफ करने और मसूड़ों को खराब होने से बचाने के लिए एलोवेरा जूस बहुत ही फायदेमंद औषधि है।
यदि दांत पिले हो गए हो, ख़राब ही गए हो या फिर जिस किसी के मसूड़ों में दर्द या सूजन हो या फिर मुँह से बदबू आती हो। यदि आपकी जबान सफ़ेद पद गयी हो इसे एक तरह का फंगल इन्फेक्शन कहे सकतें है।
इन सभी समस्यां को दूर करने के लिए आप एलोवेरा जेल को २ बड़े चम्मच की मात्रा लेकर इसको मिक्सर में पीस लें और एलोवेरा  बना लें। इस जूस को आप सुबह में  मुंह में लेकर २ से ३ मिनट तक  पूरे मुंह में अच्छी तरह घुमाएं। यही प्रयोग आप फिर रात में भी करें। ऐसा रोज सुबह शाम करने से जल्दी ही आपके दांत चमक जाएंगे और मसूड़ों का दर्द और सूजन भी ठीक हो जायेगा।

एलोवेरा जूस कब पीना चाहिए?

यदि आप ये सोचा रहे है के एलोवेरा कब खाना चाहिए? तो आपको बतादूँ एलोवेरा खाने का या इसका जूस  पिने का सबसे अच्छा समय सुबह खाली पेट होता है।
क्यों की सुबह के वक्त आपका पेट खाली होता है।  उस समय एलोवेरा का सेवन करने से उसमें मौजूद औषधीय गुण आपका शरीर सोख लेता है इससे आपको सीधे – सीधे एलोवेरा के लाभ आपको अधिक देखने को मिलते है।

एलोवेरा जूस कैसे बनाएं :

एलोवेरा जूस बनाने की विधि बहुत ही आसान है। इसके लिए आपको  इसके ताजा पत्ते से एलोवेरा जेल निकालकर इसे मिक्सर में चला लें। आपका फ्रेश एलोवेरा जूस तैयार है।

एलोवेरा जूस पीने के तरीके :

यदि आप एलोवेरा जूस पीना चाहते हो तो पहले एक बड़ा चम्मच जूस एक गिलास पानी में घोलकर पिएं। यदि इससे आपके पेट में कोई दर्द ना हो या पेट खराब ना हो तो आप इसे रोजाना पी सकते हैं।
एलोवेरा जूस आप बिना कुछ मिलाये पी सकतें है। या फिर आप इसे नारियल पानी में या किसी अन्य जूस में मिलाकर भी पी सकते हैं।
 

दिन में कितना एलोवेरा जूस पीना चाहिए :

 
आप एक दिन में करीब १०० से १२० ml जूस पी सकते हैं। इससे अधिक एलोवेरा का सेवन न करें। इसके अधिक सेवन से आपको पेट में दर्द और अपच की समस्यां पैदा हो सकती है।

एलोवेरा खाने का तरीका :

एलोवेरा को आप इसके पत्तों से निकालकर ताजा या फिर कीच देर बाद ऐसे ही खा सकतें है। यदि आप इसमें कुछ मिलाना चाहो तो भी मिश्री या गुड़ मिलाकर भी खा सकते है।

एलोवेरा जूस के फायदे :

ताजा  एलोवेरा जूस पीना आपके सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसका सेवन कॉन्स्टिपेशन, कब्ज,  एसिडिटी और अपच जैसी समस्यांओ  को दूर करता है।
जिनको भी पेट से जुडी ये शिकायतें हैं उन्हें रोज सुबह खाली पेट सबसे पहले आधा कप एलोवेरा जूस दो गिलास पानी में मिलाकर पीना चाहिए।
मधुमेह के रोगिओं को रोजाना एलोवेरा जूस  पीना चाहिए। एलोवेरा जूस का सेवन खून में शर्करा  की मात्रा  को  कम करता है। इसको रोज सुबह पीने से ब्लड शुगर नियंत्रण में रहती है।
एलोवेरा जूस आपके शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है। साथ ही ये आपके शरीर में ऊर्जा पैदा करता है।
इसे  पीने से मोटापा  याने वजन कम करने में भी मदद मिलती है। यदि आप अपना मोटापा कम करना चाहते है तो उन्हें रोजाना खली पेट एलोवेरा जूस का सेवन जरूर करना चाहिए।
ताजा  एलोवेरा जूस आपकी  पाचन शक्ति को भी बढ़ाता  है।
एलोवेरा में विटामिन्स और मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते है इसीलिए यह आका मोटापा कम करने  के साथ-साथ यह आपकी बॉडी में विटामिन्स और खनिज की कमी  को भी पूरी करता है।
और पढ़ें>>
इस लेख की मदद से आप भी आपके और आपके अपनों के स्वास्थ को बेहतर बनाने में एलोवेरा का उपयोग कर सकतें है।
इस लेख में एलोवेरा (बेनिफिट्स ऑफ एलोवेरा) के विषय में सही  और सटीक जानकारी बहुत ही आसान भाषा में देने की कोशिश की है। यदि आपको भी एलोवेरा के विषय में कोई जानकारी  हो या कोई सवाल या सुझाव हो तो निचे कमेंट्स में बता सकतें है।
यदि आपको यह लेख एलोवेरा (ग्वारपाठा) के अद्वितीय फायदे – उपयोग  जानकारी अच्छा लगा हो तो इसे किसी जरूरतमंद तथा दोस्तों  रिश्तेदारों के साथ अन्य शोशियल मीडिया Facebook, Instagram और Whatsapp पर शेयर करें।
हमारी धरती के पेड़-पौधे, वनस्पति और जड़ीबूटी की रोचक और उपयोगी जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट Hindiplant के साथ जुड़ें रहें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: