करिश्माई हैं तरबूज खाने के फायदे और उपयोग।

दुनिया में कुछ ही ऐसे फल है जो आकार में बड़े है। उनमें से ही एक है तरबूज जो बड़े आकार के फलों में कुछ ख़ास है।

इस फल के बड़े आकार की तरह ही तरबूज के फायदे भी इसी की तरह बड़े और करिश्माई है। क्या आप जानते है तरबूज के उपयोग हमें कई बिमारियों में फायदेमंद है।

जी हाँ,  आपने बिलकुल सही पढ़ा इस करिश्माई तरबूज  के फायदों का उपयोग कर हम कई बिमारियों का इलाज घरेलु उपचार से कर सकतें है। बस देरी है तरबूज की सही जानकारी की।

इसीलिए आज के इस लेख में आपको इस करिश्माई तरबूज के विषय में उपयोगी जानकारी प्राप्त होने वाली है। जिस से किसी शारीरिक बीमारी को दूर करने के लिए आपको यह जानकारी आगे चलकर कभी न कभी बहोत उपयोगी साबित होने वाली है।

तो चलिए बिना देरी के शुरू करते है आज का महत्वपूर्ण विषय करिश्माई हैं तरबूज के फायदे और उपयोग।

और जानिए >>

तरबूज  की जानकारी :

तरबूज का वैज्ञानिक नाम Citrullus lanatus है। यह एक तरह का बड़े आकार का फल है। जिसकी पूरी दुनिया में १००० से भी अधिक किस्मों की खेती की जाती है।

यह एक बेल नुमा पौधा है , इसका आकार फुट बॉल जितना या उस से बड़ा या छोटे आकार का होता है। यह गोलाकार या अंडाकार होते है।

ऊपर से ये हरे रंग के अंदर सफ़ेद और लाल रंग  के होते है। ये ऊपर से सख्त और अंदर से रसदार लाल या गुलाबी रंग के मीठे स्वाद के होते है।

इसमें काले या फिर भूरे रंग के छोटे छोटे आकार के बीज देखे जाते है। जिनका खाने में भी प्रयोग किया जाता है।

सभी देशों में तरबूज का सेवन बड़े चाव से किया जाता है। आम तौर पर यह गर्मियों का फल है। इस फल में ९२ % से भी अधिक पानी होने के कारण तरबूज की तासीर ठंडी होती है। इसलिए इसके सेवन से निर्जलीकरण ( Dehydration ) की परेशानी नहीं होती या तो दूर ही रहती है।

तरबूज में कौन सी विटामिन पाई जाती है?

तरबूज में विटामिन सी (vitamin C), विटामिन ए (vitamin A), पोटेशियम (potassium), मैग्नीशियम (magnesium) के साथ विटामिन बी १ (B1), बी ५ (B5), बी ६ (B6) पाया जाता है। इसके आलावा तरबूज में साइट्रलाइन (Citrulline) और लाइकोपीन (Lycopene) भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। 
 
इसमें कैलोरी बहोत कम मात्रा पायी जाती है। इसीलिए वजन कम करना चाहने वाले इसे अपना दोस्त बना लेना चाहिए और रोजाना या फिर १ दिन बाद तरबूज का सेवन जरूर करना चाहिए। 

तरबूज कब नहीं खाना चाहिए?

तरबूज का सेवन  कभी भी खाली पेट या रात में नहीं करना चाहिए।

तरबूज  खाने का सही तरीका क्या है?

आपको ध्यान देना ैहै के धुप में गर्म हुवा तरबूज बिलकुल भी नहीं खाना चाहिए। क्यों की धुप में रखा गर्म तरबूज खाने से आपके सिर में दर्द हो सक्ता है।

इसलिये यदि तरबूज धुप में रखा हो तो उसे ठंडे पानी में कुछ देर रख कर ठंडा करके ही खाएं। तरबूज को हमेशा ताजा काट कर ही खाएं। कटा हुवा तरबूज फ्रिज में रखकर न खाएं।

या तरबूज कब और कैसे खाना चाहिए?

तरबूज खाने का सही समय खाना खाने के १ घंटे बाद का होता है। यदि शाम के समय तरबूज खाना चाहते हो तो इसे शाम ४ से ५ बजे खाना सही रहता है।

तरबूज को आप जूस बनाकर या फिर इसे सलाद के रूप में खा सकतें है। इस तरह से तरबूज खाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

तरबूज खाने के बाद क्या नहीं खाना चाहिए :

  • तरबूज में पानी और शुगर की मात्रा होती है फ्रुक्टोज़ के रूप में होती है इसलिए तरबूज खाने के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए ऐसा करने से पेट में इन्फेक्शन हो सकता है।
  • तरबूज खाने के बाद खट्टी चीजों के सेवन से भी बचाना चाहिए जैसे दही, छाछ। क्यों की ऐसा करने से आँतों में मरोड़ और पेट में दर्द हो सकता है।
  • गर्म और गरिष्ठ चीजें खाने के बाद भी तरबूज का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • दूध, जूस और शरबत का सेवन भी तरबूज खाने के बाद नहीं करना चाहिए।
  • चावल का सेवन भी तरबूज खाने के १ घंटे पहले या १ घंटे बाद करना चाहिए।

तरबूज के फायदे :

१) तरबूज में मैग्नेशियम, पोटेशियम और एमिनो एसिड होते है जो उच्च रक्तचाप को बेहतर रखने में मदद करते है।

२) इसे दिन में खाने से कोलेस्टरोल कण्ट्रोल में रहता है और यह  वजन भी बढ़ने नहीं देता।

३) इसका सेवन शरीर को दिहायड्रेड रखने में भी मदद करता है।

४) त्वचा को सुन्दर बनाने में फायदेमंद है तरबूज।

५) आँखों के लिए भी गुणकारी है इसमें मौजूद बिटाकेरोटिन नामक तत्व। इससे आँखों की समस्यां दूर होती है।

६) यह मूत्र वर्धक होने के कारण आपकी किडनी के लिए भी लाभकारी होता है।

७) शरीर में यूरिक एसिड की समस्यां को दूर करता है तरबूज।

८) विटामिन डी प्रचुर मात्रा में होने के कारण डिप्रेशन भी दूर करता है तरबूज का सेवन।

९) इसमें पोटेशियम की मात्रा भरपूर होने से दिल की समस्यां में बहोत लाभ करता है तरबूज।

१०) एंटीऑक्सीडेंट आपके शरीर में रोगप्रतिकारक शक्ति को बढ़ाता है।

तरबूज के बीज के फायदे।

१) तरबूज के बीजों को छीलकर अंदर की गिरी खाने से दिमाग की नसों को ताकत मिलती है और शरीर को भी शक्ति मिलती है।

२) इसके बीजों की गिरी की ठंडाई बनाकर पिने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

३) सोंफ और मिश्री बारीक़ पीसकर तरबूज के बीजों की गिरी में मिलाकर गर्भवती महिलाओं को खिलाने से गर्भ में पल रहे शिशु का विकास अच्छा होता है

४) इसके बीजों को चबाकर चूसने से दांतों में पायरिया की परेशानी दूर होती है।

तरबूज खाने के नुकसान :

तरबूज से अधिक सेवन से नसों, गुर्दों के साथ मांसपेशियों समस्यां हो सकती है। पुरुषों को तरबूज का अधिक सेवन नपुंसकता और स्तंभन रोग जैसी समस्यां को बढ़ा सकता है।

गर्भावस्था के दौरान तरबूज का अधिक सेवन खून में शर्करा की मात्रा बढ़ा देने पर गर्भवती महिलाओं को मधुमेह की समस्यां हो सकती है।

इन्सुलिन लेने वाले रोगियों को तरबूज का अधिक सेवन अधिक परेशानी दे सकता है।

दमा और तरबूज की अलर्जी वाले रोगियो को भी अधिक तरबूज खाने से बचना चाहिए।

आपने देखा आकार में बड़े फलों में कितने करिश्माई है तरबूज के फायदे। आपने इस लेख में तरबूज के बारें में बहोत सारी उपयोगी बातें जानी। यदि आपको भी तरबूज के बारें में  जानकारी है, तो इसे कमैंट्स द्वारा जरूर बताएं।

आशा करता हूँ, तरबूज के विषय में दी गयी यह जानकारी आपको अच्छी और उपयोगी लगी होगी। आपके मन में तरबूज के विषय में कोई सवाल या सुझाव हो तो हमसे जरूर शेयर करें।

यदि आपको यह लेख करिश्माई हैं तरबूज खाने के फायदे और उपयोग अच्छा लगा हो तो इसे अन्य शोशियल मीडिया Facbook और Whatsapp पर जरूर शेयर करें

हमारी ढाती की ऐसी ही रोचक जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट Hindiplant पर क्लिक करें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: