सागौन (सागवान) खेती से फायदे और कीमत।

दोस्तों, सागौन (सागवान) खेती से होनेवाले फायदे और कीमत जानकर आप भी हैरान रह जाओगे और आपका भी मन सागौन की खेती करने के बारें में ज़रूर सोचेगा।
हम सभी यह ज़रूर सोचते है की बिना किसी महेनत और इन्वेस्टमेंट के हमें कुछ पैसे आने लगे। मगर इस बारें में सही ज्ञान या सही तरीका हमारे पास नहीं होता।
हम में से कई लोग ऐसे हे जिनके पास थोड़ी बहोत जमीन होती है। मगर उस ज़मीन में हम फसल ले नहीं सकते या फिर लेना नहीं चाहते। या फिर यूँ कहूं तो हमें खेती के बारें में सही जानकारी नहीं होती।
या तो कुछ संजोग में हम शहर में नौकरी करते है इस वजह से हमारी इच्छा हो कर भी हम खेती का काम कर नहीं सकते। तो निश्चिंत होकर इस लेख को पढ़ने के बाद आप सागौन (सागवान) खेती से होनेवाले फायदे और उन लकड़ी की कीमत और इनसे होने वाले मुनाफे के बारें में ज़रूर जानोगे।
इस लेख में आप जानोगे आप किस प्रकार से थोडी सी जमीन में खेती करके कुछ ही सालों में लाखों रूपये कमा सकतें है। तो चलिए जानते है के सागौन (सागवान) खेती से होनेवाले फायदे और उन लकड़ी की कीमत के बारें में।
और पढ़ें >>
 

सागौन (सागवान) की जानकारी :

सागौन का वानस्पतिक नाम क्या है?
 
सागौन का वानस्पतिक नाम: Tectona grandis है।
सागौन भी आम पेड़ों की तरह एक विशालकाय वृक्ष है। सागौन को (साल) और (सागवान) के नाम से भी जाना जाता है। सागवान के पेड़ की उम्र करीब २०० साल तक होती है।
सागौन की लकड़ी बहोत ही मजबूत और कीमती होती है। इस पर पॉलिश बहोत जल्दी चड जाती है । इससे यह दूसरी लकड़ी की तुलना में दिखने में अधिक आकर्षक दिखती है।
सागौन की लकड़ी कम सिकुड़ती है । इसकी मज़बूती इतनी होती है की कई साल पुरानी इमारतों में भी यह लकड़ी ज्यों की त्यों  पाई गई है । ख़ास कर हमारी स्कूलों में बने चम चमाते टेबल और खुर्सी आम तौर पे इसी सागौन की लकड़ी से बनि हुवी होती है।
सागौन की लकड़ी को दीमक से कोई नुकसान नहीं होता। सागौन की लकड़ी का उपयोग जहाजों, नावों, मकानों की खिड़कियों, दरवाजों  और फर्नीचर के निर्माण में होता है।
पुरे भारत में सागौन की खेती होती है। आम तौर पे सागौन की खेती ५५० से ११०० फिट की ऊंचाई तक की जाती है। तो सागौन वृक्ष ५५० से ११०० फिट की ऊंचाई पर उपलब्ध होते हैं
पिछले कई दशकों में  जंगलों से  सागौन की कटाई इतनी तेजी से हुई के जंगलों से पेड़ गायब होते जा रहे हैं, और इस पर भी सागौन की लकड़ी की गुणवत्ता और मांग को देखते हुए सागौन की कीमत और मांग भी तेजी से बढ़ती जा रही है।
सागौन की लकड़ी को ना तो दीमक लगती है, और ना ही वह पानी में खराब होती है। इसीलिए सागौन की लकड़ी का इस्तेमाल महंगी वस्तुएं बनाने में  होता है।

सागौन के बीज कैसे उगाएं:

सागवान के बीज को लगाने के लिए सितम्बर और अक्टूबर का महीना बहुत खास होता है। मगर यदि आप चाहो तो इसे पूरे साल कभी भी लगा सकते हो।
 पूरे साल इसे बढ़ने में किसी भी तरह की परेशानी नहीं होती। मगर दूसरे मौसम के मुकाबले सर्दी का मौसम में इसे लगाना अच्छा नहीं होता। क्योकि सर्दी में इसका ग्रोथ कम होता है।
इसके अलावा यदि जमीन ज्यादा पानी वाले और बाढ़ वाले इलाके में है तो सागवान के पौधे को बारिश के मौसम के बाद ही लगाना चाहिए।

सागौन के पौधे को लगाने के लिए मिट्टी की जांच कैसे करें:

खेत पर आप सागवान का पेड़ लगाना चाहते हो तो उस मिट्टी की जांच आप पहले जरूर करवा लें।  मिट्टी की जांच रिपोर्ट अगर पीएच वैल्यू ( PH Value ) 6.50 से 8.50 के बीच आती है तभी यहाँ मिट्टी सागवान की खेती के लिए उत्तम होती है।

सागौन को  कितने पानी की जरूरत होती है:

जब यह पौधा छोटा हो तब इसे पहले १ महीने में रोजाना पानी की जरूरत होती है। बारिश के मौसम में बरसाती पानी इसे काफी होता है और सर्दी के मौसम में  महीने में एक बार ही इसे  पानी की जरूरत होती है। उसके बाद १ साल में हफ्ते में एक बार ही इसे पानी की जरूरत पड़ती है।

सागौन को किससे होता है खतरा:

सागौन के पौधे को उस जमीन में बिल्कुल ना लगाएं जो पानी से भरा रहता है। इसके अलावा इसे कीड़े लगने का और दीमक का भी खतरा रहता है। इन  सभी से बचने के लिए कॉन्ट्रैक्ट करने वाली कंपनी ट्रेनिंग देती है।
ध्यान रहे सागौन के पौधे को दीमक लग सकती है, लेकिन जब इस लकड़ी का फर्नीचर बन के तैयार हो जाता है तभी से दीमक नहीं लगती। यही इस लकड़ी की खासियत है।

सागौन की खेती के लिए कितना खर्च होता है :

१  एकड़ जमीन में सागवान के ५००  पौधे लगा सकते हैं। सागवान के पौधे को लगाने के लिए इसके पौधे आपको कहीं भी नर्सरी से  मिल जाएंगे। इस पौधे अलग-अलग इलाकों में अलग-अलग कीमत पर मिलते हैं। मगर देखा जाए तो सागवान का एक पौधा ₹ ८०  से लेकर ₹ १३५  तक मिलता है।
सागौन की नर्सरी से इन पौधों को लेने में यह फायदा है के इन पौधों के साथ १  साल की रिप्लेसमेंट  गेरंटी यह नर्सरी वाले देते हैं। यदि एक साल के भीतर आप के पौधे किसी  वजह से खराब हुए या मर गए तो कंपनी बिना किसी खर्च के आपको यह पौधे फिर से उपलब्ध कराती है। आपको सागवान के पौधे लगाने हो तो इसे लगाने के लिए एक फिट की दूरी १० *९ तक रखें यह दूरी सागवान के पौधे के लिए उत्तम होती है।

क्या सागौन के साथ दूसरी फसल  लेना संभव है:

 बिल्कुल  संभव है आप अगर अपने खेत पर कोई फसल लगाने के साथ-साथ सागवान की खेती भी करना चाहते हैं तो आपको  खेत की मेड पर सागौन का पौधा लगाना होगा।
 

 किन किन राज्यों में सागवान की अच्छी फसल होती है:

सागौन के पौधे को वैसे तो कहीं भी लगाया जा सकता है।  मगर भारत में बर्फ वाले राज्यों में जैसे जम्मू कश्मीर हिमाचल प्रदेश के कुछ इलाकों में  इसे नहीं लगाया जा सकता। इसके अलावा समुद्र किनारे बसे शहरों में समुद्र से करीब ३० किलोमीटर दूर सागवान को लगाया जा सकता है।

सागौन का पेड़ कितने साल में बिकने लायक हो जाता है:

सागौन का टिश्यू कल्चर  डीप  इर्रीगेशन १२  से १५  साल तक तैयार हो जाता है। लेकिन फिर भी अगर १० साल के पेड़ की गोलाई  ३ फिट यानि ३६ इंच हो जाए तब यह  बेचने लायक हो जाता है।
 

सागौन (सागवान) की खेती से फायदे कीमत और कमाई :

सागौन की  कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग करने वाली कंपनियां २५०० क्यूबिग फिट तक कीमत लेती है। एक पेड़ पर १०  से १२  क्यूबिक फीट तक लकड़ी निकल आती है। सागौन (सागवान) की खेती से  १२ * २५००  = ३०००० तक  एक पेड़ की कीमत होगी। इस हिसाब से १  एकड़ में ५०० पेड़ लगाने पर इन सभी की कुल कीमत ५०० * ३०००० किया जाए तो १. ५ करोड़ तक होगी। 
१ एकड़ खेत की मेड की औसत लंबाई और चौड़ाई २०० गुना २२० होती है। जिस पर करीब १५० पौधे लगाए जा सकते हैं लेकिन  मेड पर १० * ९ फीट की दूरी पर नहीं बल्कि ५  बाई ५ फीट की दूरी पर लगेंगे।
सागौन (सागवान) १५० पेड़  की कीमत ₹ ३००००  प्रति पेड़ करीब १० साल के बाद करीब ४५ लाख रुपए के होगे।

सागौन (सागवान)  के पेड़ को कहाँ बेचें:

१- सागौन की लकड़ी खरीदने वाले  किसी कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट कर लिया जाए।
२- किसी भी शहर के खुले बाजार में इसे बेच सकते हैं।
और जानिये >>
आपने देखा सागौन की खेती हमें कैसे उपयोगी हो सकती है। मेने इस लेख में सागौन के विषय में विस्तार से जानकारी देने की कोशिश  की है।
यदि सागौन (सागवान) के बारें में आपका कोई सवाल हो तो निचे कमैंट्स में पूछ सकते है। आशा करता हूँ आपको सागौन (सागवान) खेती से होने वाले फायदे और कीमत के बारें में यह जानकारी उपयोगी लगी होगी।
यह पोस्ट आपको अच्छी लगी हो तो कृपया Facebook जैसे सो सोशल Social मीडिया पर इसे शेयर करें। और  ऐसी उपयोगी जानकारी के लिए Main Page पर जाएँ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: